Happydaysmswishes

Birthday, Wedding, Festival, Love SMS Wishes Message

Teachers Day 2018 Speech : Long & Short Teachers Day Speech, Essay In English & Hindi

Teachers Day 2018 Speech: Celebrating teachers’ day in school is one of the finest memories from the school days. There is no doubt about it, we can say that everyone will agree with it. The beginning of preparations to surprise our teachers with all the decorations, with detailed plays, essays, and speeches, is such an event that leaves a mark in memory.

We have given various types of speeches on teacher’s day under the limits of various words to meet our needs for the students. All teachers’ day speech is written especially for the use of students using very simple and easy words. By using such Teachers Day speech, students can actively participate in the lessons of speech on the day-to-day basis and express their heartfelt feelings for their favorite teacher in school or college.

Dear student, you can select any of the following speeches. Each year on 5th September, Teachers’ Day is celebrated to honor Dr Sarvepalli Radhakrishnan. The day is commemorated to stimulate the contribution of teachers to society. The students get the best Teachers Day Speech in English and In the Hindi language for their favorite teachers. The Happy Teachers Day 2018 Speech is presented by the students to their teachers who play a vital role in the overall development of the students. For the upcoming Teachers’ Day 2018, we have come up with the Teachers Day Speech & Essay that you can Copy & represent to the favorite Teacher.

Teachers Day 2018 Short Speech:

Today is 5th of September and on this day we celebrate teacher’s day every year with lots of joy, happiness, and enthusiasm. First of all, I would like to thank my class teacher for giving me such a big opportunity to the speech here at the is a great occasion. My dear friends, today on the occasion of Teacher’s Day, I would like to speak about the importance of teachers in our life.

Good morning to the respected teachers and my dear friends. As we all are known with the reason why we’ve gathered here in such a huge crowd. We are here to celebrate Teacher’s Day 2018 and to message them our heartily tribute for their hard efforts of making our and nation’s future.

Today is 5th of September and on this day we celebrate teachers day every year with lots of joy, happiness and enthusiasm. First of all, I would like to thank my class teacher for giving me such a big opportunity to the speech here at the is a great occasion. My dear friends, today on the occasion of Teacher’s Day, I would like to speak on the importance of teachers in our life.

Teachers are the true well-wishers for the students as they treat every student of them as their own kid. Parents give birth to a child but teachers shape that child to lit the brightness and take away all the darkness. Teachers are the best source of inspiration to a child they not only correct the flaws of a student but also make them confident and skilful. We must respect and obey them as they are our Guru.

Once someone asked that what is the most important thing for a nation to develop and the answer by a great scholar was A Teacher. This shows the importance of the teacher in an individual life. You all the best teachers I found and I feel lucky to have you all who are always available to help me when I am in need.

Through This Teachers Day Speech 2018, I would like to end up by saying that thank you for everything. Thank you for your apologies on our mischief. My all dear teachers I take a pledge here that I will respect you all in my future also because I love you all!! Thank You.

♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥

 

प्रधानाचार्य, आदरणीय अध्यापक व अध्यापिकाएं और यहाँ इकट्ठे हुए मेरे प्यारे सहपाठियों को सुप्रभात। हम सभी यहाँ शिक्षक दिवस के उत्सव को मनाने के लिए एकत्र हुए हैं। आज 5 सितम्बर है. जो सभी कॉलेजों और स्कूलों में छात्रों के द्वारा अपने शिक्षकों को, विद्यार्थियों को ज्ञान प्रदान करके उनके कैरियर को आकार देने के द्वारा समाज और देश में उनके अमूल्य योगदान को सम्मान देने के लिए मनाया जाता है। शिक्षक दिवस का कार्यक्रम हमारे देश में प्रसिद्ध राष्ट्रीय कार्यक्रम हैं, यह डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन से, विद्यार्थियों के द्वारा उनके जन्मदिन को मनाने के आग्रह के कारण मनाया जाता हैं। 5 सितम्बर डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिवस है, जो शिक्षक दिवस के रुप में मनाया जाता है। विद्यार्थी अपने शिक्षकों को उनके स्वार्थरहित प्रयासों और पूरे देश में शिक्षा व्यवस्था को समृद्ध बनाने के लिए सम्मान प्रदर्शित करते हैं।

शिक्षक दिवस विभिन्न देशों में अलग-अलग तिथियों को एक विशेष कार्यक्रम के रुप में मनाया जाता है। चीन में, यह हर साल 10 सितम्बर को मनाया जाता है। सभी देशों में इस कार्यक्रम को मनाने का उद्देश्य आमतौर पर शिक्षकों को सम्मान देना और शिक्षा के क्षेत्र में प्राप्त उपलब्धियों की प्रशंसा करना है। इस कार्यक्रम के आयोजन के दौरान स्कूलों और कॉलेजों में विद्यार्थियों के द्वारा बहुत सी तैयारियाँ की जाती है। बहुत से विद्यार्थी इस कार्यक्रम को यादगार बनाने के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रमों, भाषणों और अन्य गतिविधियों में भाग लेकर मनाते हैं। कुछ विद्यार्थी इसे अपने ही तरीके से अपने प्रिय अध्यापक को कोई फूल, कार्ट, गिफ्ट, ई-ग्रीटिंग कार्ड, एस.एम.एस., मैसेज आदि के द्वारा उनका आदर करके और प्रशंसा करने के माध्यम से मनाते हैं।

शिक्षक दिवस, सभी विद्यार्थियों के लिए अपने शिक्षकों के सम्मान और आदर में कुछ विशेष आयोजन करने का एक अद्भुत अवसर है। यह एक नये शिक्षक के लिए भविष्य में शिक्षा की ओर जिम्मेदार शिक्षक बनने के लिए प्रशंसा की तरह है। एक विद्यार्थी के रुप में, मैं अपने जीवन में हमेशा शिक्षकों का/की आभारी रहूँगा/रहूँगी।

धन्यवाद।

 

♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥

 

A very good morning to the Principal, respected teachers and my dear colleagues. We are here today to celebrate a most honorable occasion of Teachers day. Really it is an honorable occasion to all the students all over the India. It is observed every year to pay respect to the teachers from their obedient students. So, dear friends come on and join this celebration to pay a heartily respect to our own teachers. They are called as the back bone of our society because they highly contribute in building up our characters, shaping our future and help us to be ideal citizens of the country.

Teacher’s day is celebrated all across the India every year on 5th of September to pay tribute to the teachers for their precious contributions in our study as well as towards the society and country. There is a great reason behind the celebration of teacher’s day on 5th of September. Actually, 5th of September is the birthday Dr. Sarvapalli Radhakrishnan. He was a great person and highly devoted towards the education. He was well known as the scholar, diplomat, Vice President of India, President of India and most importantly the Teacher. After his selection as the Indian President in 1962, he was asked and requested by the students to get permission to celebrate his birthday on 5th of September. However, he replied that, instead of celebrating 5th of September as my personal birthday, it would be better if it is dedicated to the whole teaching profession. And 5th of September should be celebrated as teachers day all over India to pay honor to the teaching profession.

For all students of India, Teachers’ Day is like an occasion and opportunity to pay tribute and gratitude to their teachers for their continuous, selfless and precious efforts in shaping the future. They are the reason to enrich all the quality education system in the country and process it continuously without getting tired. Our teachers never consider us less than their own children and teaches us from their heart. As kids we need inspiration and motivation which we surely get from our teachers. They prepare us to tackle any bad situation of the life through the knowledge and patience. Dear teachers, we are really grateful to all of you and would be forever.

Thank You

♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥

Teachers Day 2018 Long Speech In Hindi & English:

Here we will provide the Long Speech on Teacher’s Day in English & Hindi to represent the respect for their Teachers. Good morning to the respected teachers and my dear colleagues. As we all know the reason for nice gathering here in such a huge crowd. We are here to celebrate Teacher’s day today and to give them our heartily tribute for their hard efforts of making our and nation’s future.

Today is 5th of September and on this day we celebrate teacher’s day every year with lots of joy, happiness, and enthusiasm. First of all, I would like to thank my class teacher to give me such a big opportunity to the speech here at this great occasion. My dear friends, today on the occasion of Teachers Day, I would like to speak about the importance of teachers in our life in English.

Good morning respected Principal, teachers and all my colleagues,
It is indeed so wonderful to be present here for celebrating the occasion of Teacher’s Day.
To mark the importance of this day, I would like to deliver a speech to express gratitude to all my teachers.

Whether you call them a guide, a guru, a teacher, a mentor or an educator.. they all mean the same. It is teachers who play an extremely important role in molding our personality and also shaping our lives. Teachers are the ones who selflessly work for our betterment, not expecting anything in return. Today, on this occasion, I would like to thank all my teachers who have taught me to strive for excellence and become a better version of me. My teachers have contributed to raising my spirits when I was dejected and grief-stricken. They have always shown me the right way to deal with situations and overcome my shortcomings. It is because of the advice of my teachers that I am able to concentrate on myself and am constantly trying to follow the path of goodness and righteousness.
Sometimes, I wonder is it really possible to be as bright and as hardworking as my teachers, is it really possible to focus on a large class and imbibe good values to them. But then, by looking at my teachers I realize they do this job every day.
I would really like to appreciate all the efforts and would like to thank all my teachers for being pillars of support and being such an indispensable part of my life.
Thank you!

♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥

Good morning to all the teachers and my dear friends. The light of the world, the beacon in the dark and the hope that gives us strength to survive, is our teacher. Today we celebrate Teachers’ Day. A day, kept aside to honour the gifted souls who work everyday to make sure that the future is bright for all of us. Let us welcome all the teachers with a big round of applause. On this beautiful occasion, let us take the opportunity to convey our wishes to all our teachers, who have given impeccable contribution in shaping us. Every year 5th of September, we celebrate Teachers Day. It is a day filled with lots of excitement, joy and happiness as students are eagerly looking forward to tell their teachers how and why are they special to them. It is my honour to to talk about our dear teachers on this wonderful occasion.

We celebrate Teachers’ day on 5th of September every year in India. September 5th is marked by the birth anniversary of Dr. Sarvepalli Radhakrishnan and the Teachers’ day is celebrated in commemoration of his birthday. Along with being a succesful leader in the form of the President of the Country, Dr. Sarvepalli Radhakrishnan was great scholar and an excellent teacher.  Students across the country celebrate this day to pay respect and thank their teachers. Teachers are the back bone of our society. They spear head change by shaping and building students’ personality and make them ideal citizens of the country.

As one looks at the great impact on the growth, development and well being of the students and nation, one must agree that teaching is a noble profession. There is a saying that teachers are greater than the parents. Parents give birth to a child whereas teachers mould that child’s personality and provide a bright future. Apart from academics, teachers stand by us at every step to guide, motivate and inspire to become better people. They are the source of knowledge and wisdom. From them leads the ideas and thougts, that one day each one of use will use to provide back into this society. I would like to extend my gratitude to every teacher for selffless service and dynamic support.We are always grateful to you.  Thank you everyone.

♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥

शिक्षक दिवस पर भाषण व निबंध –

आदरणीय अध्यापकों और मेरे प्यारे मित्रों को सुप्रभात। जैसा कि हम सभी यहाँ एकत्र होने का कारण जानते हैं। हम आज यहाँ शिक्षक दिवस मनाने के लिए और हमारे व राष्ट्र के भविष्य के निर्माण के लिए शिक्षकों के कठिन प्रयासों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए इकट्ठा हुए हैं। आज 5 सितम्बर है, और यह दिन हर साल हम बड़े उत्साह, खुशी और उल्लास के साथ शिक्षक दिवस के रुप में मनाते हैं। सबसे पहले, मैं अपने कक्षा अध्यापक को इस महान अवसर पर, मुझे भाषण देने का अवसर प्रदान करने के लिए धन्यवाद कहता/कहती हूँ। मेरे प्यारे मित्रों, शिक्षक दिवस के इस अवसर पर, मैं शिक्षकों के महत्व पर हिन्दी में अपने विचार भाषण के माध्यम से रखना चाहता/चाहती हूँ।

हर साल 5 सितम्बर, पूरे भारत में शिक्षक दिवस के रुप में मनाया जाता है। वास्तव में, 5 सितम्बर, डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिवस है, जो महान विद्वान और शिक्षक थे। अपने बाद के जीवन में वह गणतंत्र भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति बने।

पूरे देश के विद्यार्थी इस दिन को शिक्षकों को सम्मानित करने के लिए मनाते हैं। यह सही कहा गया है कि, शिक्षक हमारे समाज की रीढ़ की हड्डी होते हैं। वे विद्यार्थियों के चरित्र का निर्माण करने और उसे भारत के आदर्श नागरिक के आकार में ढालने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

अध्यापक छात्रों को अपने स्वंय के बच्चे की तरह बड़ी सावधानी और गंभीरता से शिक्षित करते हैं। किसी ने सही कहा कि, शिक्षक अभिभावकों से भी महान होता है। अभिभावक एक बच्चे को जन्म देते हैं, वहीं शिक्षक उसके चरित्र को आकर देकर उज्ज्वल भविष्य बनाते हैं। इसलिए, हमें उन्हें कभी भी भूलना और नजरअंदाज नहीं करना चाहिए, हमें हमेशा उनका सम्मान और उनसे प्रेम करना चाहिए।

हमारे माता-पिता हमें प्यार और गुण देने के लिए जिम्मेदार हैं हालांकि, हमारे शिक्षक पूरा भविष्य उज्ज्वल और सफल बनाने के लिए जिम्मेदार हैं। वे हमें अपने निरंतर प्रयासों के माध्यम से हमारे जीवन में शिक्षा के महत्व से अवगत कराते हैं। वे हमारी प्रेरणा के स्रोत होते हैं जो हमें आगे जाने और सफलता प्राप्त करने के लिए प्रेरित करते हैं। वे हमें संसारभर के महान व्यक्तित्वों का उदाहरण देकर शिक्षा की ओर प्रोत्साहित करते हैं। वे हमें बहुत मजबूत और जीवन में आने वाली हरेक बाधा का सामना करने के लिए तैयार करते हैं। वे पूरी तरह से अपार ज्ञान और बुद्धि से भरे होते हैं जिसका प्रयोग करके वे हमारे जीवन को पोषित करते हैं। चलों आओ मेरे प्यारे साथियों, हम सभी एक साथ अपने शिक्षकों के सम्मान में कहें कि, ‘हमारे आदरणीय शिक्षकों जो कुछ भी आपने हमारे लिए किया उसके लिए हम आपके हमेशा आभारी रहेगें’। मेरे प्यारे मित्रों, हमें हमेशा अपने अध्यापकों के आदेशों का पालन करना चाहिए और देश का योग्य नागरिक बनने के लिए उनकी सलाह का अनुकरण करना चाहिए।

धन्यवाद।

♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥

आदरणीय प्रधानाचार्य जी, शिक्षक व शिक्षिकाएं और मेरे प्यारे सहपाठियों को मेरा नमस्ते। आज हम सभी यहाँ सबसे सम्मानीय समारोह, शिक्षक दिवस को मनाने के लिए उपस्थित हैं। वास्तव में, यह पूरे भारत में, विद्यार्थियों के लिए सबसे सम्मानपूर्ण अवसर है, जब वो अपने शिक्षिकों को उनके द्वारा प्रदान किए गए ज्ञान के रास्ते के लिये, उन्हें आभार प्रकट करते हैं। यह आज्ञाकारी छात्रों के द्वारा अपने शिक्षकों को सम्मान देने के लिए मनाया जाता है। इसलिए, प्यारे साथियों, अपने अध्यापकों को तहे दिल से सम्मान देने के लिए इस उत्सव को मनाने में शामिल हो जाओ। उन्हें समाज की रीढ़ की हड्डी कहा जाता है क्योंकि वे हमारें चरित्र के निर्माण, भविष्य को आकार देने में और देश का आदर्श नागरिक बनने में हमारी मदद करते हैं।

शिक्षक दिवस पूरे भारत में हर साल 5 सितम्बर को, शिक्षकों को हमारी शिक्षा के साथ ही समाज और देश के लिए बहुमूल्य योगदान को सम्मान देने के लिए मनाया जाता है। 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस मनाने के पीछे बहुत बड़ा कारण है। वास्तव में, 5 सितम्बर डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म दिवस है। वह महान व्यक्ति थे और शिक्षा के लिए पूरी तरह से समर्पित थे। वह एक विद्वान, राजनयिक, भारत के उप-राष्ट्रपित, भारत के राष्ट्रपति और सबसे महत्वपूर्ण शिक्षक के रुप में, बहुत अच्छे से जाने जाते हैं। 1962 में उनके राष्ट्रपति के रुप में चुनाव के बाद, विद्यार्थियों ने, उनके जन्मदिन 5 सितम्बर को मनाने की प्रार्थना की। बहुत अधिक अनुरोध करने के बाद उन्होंने जवाब दिया कि, 5 सितम्बर, को मेरे व्यक्तिगत जन्मदिन के रुप में मनाने के स्थान पर यह अच्छा होगा कि, इस दिन को पूरे शैक्षिक पेशे के लिए समर्पित किया जाये। और तब से 5 सितम्बर पूरे भारत में शैक्षिक पेशे के सम्मान में शिक्षक दिवस के रुप में मनाया जाता है।

भारत के सभी छात्रों के लिए, शिक्षक दिवस उनके भविष्य को आकार देने में उनके निरंतर, निस्वार्थ और कीमती प्रयासों के लिए उनके द्वारा अपने शिक्षकों के प्रति सम्मान और कृतज्ञता को अर्पित करने का उत्सव और अवसर है। वे देश में गुणवत्ता की शिक्षा प्रणाली को समृद्ध करने और इसके लिए निरतंर बिना थकावट के किए गए प्रयासों ही कारण हैं। हमें हमारे शिक्षक अपने स्वंय के बच्चों से कम नहीं समझते और हमें पूरी मेहनत से पढ़ाते हैं। एक बच्चे के रुप में, जब हमें प्रेरणा और प्रोत्साहन की आवश्यकता होती है, जिसे हम निश्चित रुप से अपने अध्यापकों से प्राप्त करते हैं। वे हमें जीवन में किसी भी बुरी स्थिति से ज्ञान और धैर्य से माध्यम से बाहर निकलना सीखाते हैं। प्रिय अध्यापकों, हम सभी वास्तव में हमेशा आपके आभारी रहेगें।

धन्यवाद।

Long & Short Essay on Teacher’s Day:

The role of teachers in everyone’s life is great as they are the only visual source of knowledge for their students. We have provided various essays on Teacher’s Day to help your kids and children in the essay writing competition. Hello students, you all are at the right place, start learning such simple and easy teacher’s day essay

Good morning to the respected Principal, teachers and my dear friends. As we all know that we are here to celebrate teachers day today. My self, _______ studying in class __ would like to speech on the occasion of Teachers Day. But first of all I would like to thank my class teacher to offer me such a great opportunity to speech on teachers day. The title of my speech is, why teachers are so important in our life.

In India, teachers day is celebrated by the students on 5th of September every year. It is the birth anniversary of the Dr. Sarvepalli Radhakrishan. His birth date is being celebrated as teachers day every year from the time when he became President of India in 1962 after the students request.

Teachers really play key roles towards the education and student’s life. Teachers generally become a person with proper vision, knowledge and experience. Teaching profession is a profession of great responsibility than any other jobs. Teaching profession has a great impact on the growth, development and well being of the students and nation. According to the Madan Mohan Malavia (founder of Banaras Hindu University), a teacher is “…….It Lies Largely In His Teacher’s Hand To Mould The Mind Of The Child Who Is Father Of The Man. If He Is Patriotic And Devoted To The National Cause And Realizes His Responsibility, He Can Produce A Race Of Patriotic Men And Women Who Would Religiously Place The Country Above The Community And National Gain Above Communal Advantage.”

There are many precious roles of teachers in education of students, society and country. The growth and development of the people, society and country is solely depend on the quality of education which can be given by a good teacher. Good quality education is very necessary to all to fulfill the need of politicians, doctors, engineers, businessmen, farmers, artists, scientists, etc in the country. Teachers have to continue hard works and go through variety of books, articles, etc to put thorough knowledge needed to the society. They guide their students all time and tell the path to make good career. There were many ideal teachers in India who have set themselves as role models for the upcoming teachers.

An ideal teacher become courteous all time without being impartial and not affected by insult. Teachers are like parents in the school for all student. They do their best to maintain health and concentration level of the students. They motivate students to participate in the extra curricular activities also besides studies in order to improve students mind level.

I am going to recite some well said quotes on education, students and teachers by the Indian Prime Minister, Narendra Modi during his interaction with students on the Teachers’ Day:

  • “Education should become a force for the nation’s character building.”
  • “Dialogue with students: Enjoy childhood. Don’t let the child in you die.”
  • “We must restore respect for the teacher in our society.”
  • “Can’t India dream of exporting good teachers?”
  • “Children can contribute to nation-building through cleanliness, saving electricity and water.”

♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥

आदरणीय प्रधानाध्यापक, सर, मैडम और मेरे प्यारे सहपाठियों को सुबह की नमस्ते। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि, आज हम यहाँ शिक्षक दिवस मनाने के लिए एकत्र हुए हैं। मैं ………कक्षा…. में पढ़ने वाला/वाली विद्यार्थी, शिक्षक दिवस पर अपने विचार रखना चाहता/चाहती हूँ। लेकिन, सबसे पहले मैं शिक्षक दिवस के महान अवसर पर भाषण देने का मौका देने के लिए अपनी कक्षा अध्यापिका को धन्यवाद कहना चाहता/चाहती हूँ। मेरे भाषण का विषय है, “हमारे जीवन में शिक्षक की इतनी महत्ता क्यों है”।

भारत में, विद्यार्थियों द्वारा शिक्षक दिवस हर साल 5 सितम्बर को मनाया जाता है। यह डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म दिवस है। उनका जन्म दिन उनके 1962 में भारत के राष्ट्रपति बनने के बाद के समय से, विद्यार्थियों के अनुग्रह पर शिक्षक दिवस के रुप में मनाया जाता है।

शिक्षक वास्तव में शिक्षा और विद्यार्थियों के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका को निभाते हैं। शिक्षक आमतौर पर उचित दृष्टि, ज्ञान और अनुभव वाले व्यक्ति बन जाते हैं। शिक्षकों का पेशा किसी भी अन्य पेशे से ज्यादा बड़ी जिम्मेदारियों वाला होता है। विद्यार्थियों और राष्ट्र की वृद्धि, विकास, और दोनों की भलाई पर शैक्षिक पेशा गहरा प्रभाव रखता है। मदन मोहन मालवीय के अनुसार (बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के संस्थापक), “एक बच्चा जो आदमी का पिता होता है, उसके मन को ढालना उसके शिक्षक पर बहुत अधिक निर्भर करता है। यदि वह देशभक्त है और देश के लिए समर्पित है और अपनी जिम्मेदारियों को समझता है, तो वह देशभक्त पुरुषों और महिलाओं की एक जाति को पैदा कर सकता है जो धार्मिकता से ऊपर देश को और सामुदायिक लाभ से ऊपर राष्ट्रीय लाभ को रखेंगे।”

शिक्षक की विद्यार्थियों, समाज और देश की शिक्षा में बहुत सारी महत्वपूर्ण भूमिकाएं हैं। लोग, समाज और देश का विकास एवं वृद्धि शिक्षा की गुणवत्ता पर निर्भर करता है, जो केवल अच्छे शिक्षक के द्वारा दी जाती है। देश में राजनेताओं, डॉक्टरों, इंजीनियरों, व्यापारियों, किसानों, कलाकारों, वैज्ञानिकों, आदि की जरुरत को पूरा करने के लिए अच्छी गुणवत्ता की शिक्षा बहुत आवश्यक है। समाज के लिए आवश्यक ज्ञान के लिए शिक्षक किताबों, लेखों, आदि के माध्यम से प्राप्त करने के लिए निरंतर कठिन परिश्रम करते हैं। वे अपने विद्यार्थियों को हमेशा दिशा-निर्देशित करते हैं और उन्हें अच्छे कैरियर के लिए रास्ता बताते हैं। भारत में ऐसे कई महान अध्यापक है जिन्होंने अपने आपको आने वाले शिक्षकों के लिए प्रेरणास्रोत के रुप में स्थापित किया है।

एक आदर्श शिक्षक को निष्पक्ष और अपमान से प्रभावित हुए बिना हर समय विनम्र रहना चाहिए। विद्यालय में सभी विद्यार्थियों के लिए शिक्षक अभिभावकों की तरह होते हैं। वे छात्रों के स्वास्थ्य और एकाग्रता के स्तर को बनाए रखने के लिए अपने सर्वश्रेष्ठ प्रयास करते हैं। वे अपने विद्यार्थियों के मानसिक स्तर में सुधार करने के लिए पढ़ाई से अलग अतिरिक्त पाठ्क्रम गतिविधियों में भाग लेने के लिए भी प्रोत्साहित करते हैं।

मैं शिक्षा, विद्यार्थियों और शिक्षकों के बारे में भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा शिक्षक दिवस पर उनके विद्यार्थियों के साथ हुए वार्तालाप में कही गयी कुछ बातों को कहता/कहती हूँ:

  • “शिक्षा, राष्ट्र के चरित्र निर्माण के लिए एक ताकत बन जानी चाहिए।”
  • “बच्चों के साथ वार्तालाप करों: बचपन का आनंद लो। मरते समय तक अपने अंदर के बच्चे को जाने मत दो।”
  • “हमें अपने समाज में शिक्षकों के प्रति सम्मान को बहाल करना चाहिए।”
  • “क्या भारत अच्छे शिक्षकों को निर्यात करने का सपना नहीं देख सकता।”
  • “बच्चे राष्ट्र के निर्माण में स्वच्छता, ऊर्जा और पानी को बचाने के माध्यम से कर सकते हैं।”
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2018 Happydaysmswishes. All Rights Reserved.